6. प्राकृतिक संसाधनों का प्रबंधन ( लघु उत्तरीय प्रश्न )

Bihar Board ( BSEB ) PDF

1. अपने प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण हेतु पाँच कार्यों का उल्लेख करें।

उत्तर ⇒ 

(i) मितव्ययितापूर्वक उपयोग करके,

(ii) वृक्षारोपण द्वारा,

(iii) वैकल्पिक सात ,

(IV) समुचित रख-रखाव,

(v) नियंत्रित एवं दरगामी प्रयोग हतु जागरूक कर।


2. प्राकृतिक संसाधनों को उदाहरण सहित परिभाषित काजिए’।

उत्तर ⇒ प्रकृति में पाए जाने वाले मनष्य के लिए उपयोगी पदार्थों को प्राकृतिक संसाधन कहते हैं। उदाहरण—वायु, जल, मिट्टी, खनिज, कोयला, पेट्रोलियम आदि प्राकृतिक संसाधन हैं।


3. प्राकृतिक संसाधनों को किस तरह सुरक्षित रखा जा सकता है ?

उत्तर ⇒ प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग कम से कम करके या उसक बदल किसी अन्य स्रोत पर निर्भर करके प्राकृतिक संसाधनों को बचाया जा सकता है। कृत्रिम ससाधना को बढ़ावा देकर भी हम संसाधनों की सुरक्षा कर सकते हैं।


4. संसाधनों के दोहन के लिए लंबी अवधि को ध्यान में रखकर बनाई गई परियोजनाओं के लाभ क्या-क्या हो सकते हैं ?

उत्तर ⇒ संसाधनों के दोहन के लिए लंबी अवधि को ध्यान में रखकर बनाई गई परियोजनाओं से निम्नलिखित लाभ हो सकते हैं –
(i) यह दीर्घकालीन उद्देश्यों को ध्यान में रखकर बनायी जाती है ।
(ii) इनकी लागत अधिक होती है पर यह लाभ भी अधिक देते हैं ।
(iii) इन परियोजनाओं के प्रभाव व्यापक क्षेत्र पर पड़ते हैं ।


5. संसाधनों के दोहन के लिए कम अवधि के उद्देश्य के परियोजना से क्या लाभ हो सकते हैं ?

उत्तर ⇒ संसाधनों के दोहन के लिए कम अवधि के उद्देश्य के परियोजना से निम्नलिखित लाभ हो सकते हैं –

(i) संसाधनों पर कम दबाव तथा पर्यावरण की न्यूनतम क्षति ।

(ii) संसाधनों के पुनः पूरण के लिए पर्याप्त समय ।

(iii) प्रभावों को कम करने एवं पर्यावरण को सुधारने में सुविधा ।


6. नाभिकीय ऊर्जा किसे कहते हैं ?

उत्तर ⇒ यूरेनियम (भारी द्रव्यमान) पर निम्न ऊर्जा न्यूट्रॉन से बमबारी की जाती है और यह हल्के नाभिकों में टूट जाता है तथा विशाल मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न होता है । इस ऊर्जा को नाभिकीय ऊर्जा कहते हैं।


7. जीवमंडल से क्या समझते हो ?

उत्तर ⇒ जीवमंडल जैव-व्यवस्था का सबसे बड़ा स्तर [Level] है। संसार के विभिन्न पारिस्थितिक तंत्र या पारितंत्र एक साथ मिलकर जीवमंडल का निर्माण करते हैं।


8. किन्हीं दो वन उत्पादों का पता लगाइये जो किसी उद्योग के आधार हैं ?

उत्तर ⇒ तेंदु पत्ती का उपयोग बीडी बनाने में व यूक्लिप्टस-बाँस के पेड़ों का कागज मिल में ये दो वन उत्पाद हैं जो कि इनके उद्योग के आधार हैं।


9. रेडियोधर्मिता किसे कहते हैं ?

उत्तर ⇒ ऐसी परिघटना है जिसमें कुछ तत्त्वों के परमाणु नाभिकों के विघटन के परिणामस्वरूप इलेक्ट्रॉन (बीटा कण) तथा गामा किरणों (वैद्युत चुंबकीय विकिरण) का स्वतः उत्सर्जन होता है।


10. जीवाश्म ईंधन किसे कहते हैं ? दो जीवाश्म ईंधन के नाम लिखें।

उत्तर ⇒ लाखों वर्ष पूर्व जैव मात्रा के अपघटन से प्राप्त होने वाले ईंधन को जीवाश्म ईंधन कहते हैं।
जैसे—कोयला और पेट्रोलियम ।


11. पर्यावरण को बचाने के लिए तीन प्रकार के ‘R’ का क्या उपयोग है ?

उत्तर ⇒ पर्यावरण को बचाने के लिए तीन प्रकार के ‘R’ का उपयोग हम करते हैं—’कम उपयोग’ (reduce), पुन: चक्रण (recycle) व पुन: उपयोग (reuse)।


12. मानव के किन क्रियाकलापों ने गंगा को प्रदूषित किया है ?

उत्तर ⇒  नहाना, कपड़े धोना, मृत व्यक्तियों की राख व शवों को बहाना, उद्योगों द्वारा उत्पन्न रासायनिक उत्सर्जन आदि मानव के क्रिया-कलाप हैं जिनसे गंगा प्रदूषित हो गयी है।


13. “ग्रीन हाउस प्रभाव” से हमारे ऊपर क्या असर पड़ेगा ?

उत्तर ⇒ 

(i) अत्यधिक ग्रीनहाउस प्रभाव होने से पृथ्वी की सतह तथा उसके वायुमंडल का ताप बहुत अधिक बढ़ जाएगा। वायुमंडल का ताप अत्यधिक बढ़ जाने से मानव तथा जंतुओं का जीवन कष्टदायक हो जाएगा तथा पेड़-पौधों के स्वास्थ्य पर भी बुरा प्रभाव पड़ेगा।(ii): वायुमंडल का ताप अत्यधिक बढ़ने से पर्वतों की बर्फ शीघ्रता से पिघल जाएगी, जिससे नदियों में बाढ़ आ सकती है तथा जान-माल की हानि हो । सकती है।
(ii) कार्बन डाइऑक्साइड के अणु अवरक्त विकिरणों का शोषण कर – सकते हैं। वायुमंडल में Co2 की परत अवरक्त मिश्रण का अवशोषण कर लेती है तथा उन्हें पृथ्वी के पर्यावरण से नहीं जाने देती। फलस्वरूप वायुमंडल का ताप बढ़ जाता है।


14. पर्यावरण को बचाने का मुख्य उपाय क्या है ?

उत्तर ⇒  पर्यावरण को बचाने का मुख्य उपाय है—वृक्षारोपण, C.N.G., धुआँरहित – चिमनी इत्यादि। इससे प्रदूषित हवा, पानी एवं मिट्टी को नियंत्रित किया जा सकता है।


15. जीवाश्म ईंधन जैसे संसाधनों के विवेकपूर्ण उपयोग की आवश्यकता क्यों है ?

उत्तर ⇒  जीवाश्म ईंधन जैसे संसाधनों के विवेकपूर्ण उपयोग का आवश्यकता – है क्योंकि इनकी मात्रा सीमित है और इनके दहन से पर्यावरण प्रदूषित होता है ।


16. बाघ संरक्षण योजना क्या है ? इसे कब लागू किया गया था ?

उत्तर ⇒  जंगल के लगातार कटने के कारण बाघ की संख्या घटती जा रहा है, – इसे बचाने के लिए बाघ संरक्षण योजना तैयार किया गया है । जिसके अतर्गत
28 टाइगर रिजर्व भारत में खोला गया है । यह योजना भारत सरकार के साथ WWF (World Wild life Fund) का भी है । इसे भारत में 1995 में लागू किया गया था ।


17. विभिन्न वन उत्पादों के दावेदार कौन हैं ?

उत्तर ⇒  विभिन्न वन उत्पादों के दावेदार निम्नलिखित हैं

(i) वन के अंदर एवं इसके निकट रहने वाले अपनी अनेक आवश्यकताओं के लिए वन पर निर्भर रहते हैं।

(ii) सरकार का वन विभाग जिनके पास वनों का स्वामित्व है तथा वे वनों से प्राप्त संसाधनों का नियंत्रण करते हैं।

(iii) उद्योगपति जो तेंदू पत्तों का उपयोग बीड़ी बनाने से लेकर कागज मिल तक विभिन्न वन उत्पादों का उपयोग करते हैं। परंतु वे वनों के किसी भी एक क्षेत्र पर निर्भर नहीं रहते ।

(iv) वन्य जीवन एवं प्रकृति प्रेमी जो प्रकृति का संरक्षण इसकी आद्य अवस्था में करना चाहते हैं ।


18. घुमंतु चरवाहों को विशाल हिमालय राष्ट्रीय उद्यान में रोकने का क्या नतीजा हुआ ?

उत्तर ⇒  घुमंतु चरवाहों को विशाल हिमालय राष्ट्रीय उद्यान में रोकने से वहाँ घास पहले बहुत लंबी हो जाती है, फिर लंबाई के कारण जमीन पर गिर जाती है जिससे नयी घास की वृद्धि रुक जाती है ।


19. राष्ट्रीय पुरस्कार ‘अमृता देवी विश्नोई पुरस्कार’ किनकी स्मृति में दिया जाता है ?

उत्तर ⇒  राष्ट्रीय पुरस्कार ‘अमृता देवी विश्नोई पुरस्कार’ अमृता देवी विश्नोई की स्मृति में दिया जाता है जिन्होंने 1731 में जोधपुर के पास खेजराल गाँव में ‘खेजरी वृक्षों को बचाने हेतु 363 लोगों के साथ अपने आपको बलिदान कर दिया था ।


20. ‘गंगा का प्रदूषण’ पर टिप्पणी लिखें।

उत्तर ⇒ गंगा हिमालय में स्थित अपने उद्गम गंगोत्री से बंगाल की खाड़ी में गंगा सागर तक 2500 km तक की यात्रा करती है । इसके किनारे स्थित नगरों ने इसमें उत्सर्जित कचरा एवं मल प्रवाहित कर इसे एक नाले में परिवर्तित कर दिया है । मानव के अन्य क्रियाकलाप जैसे—नहाना, कपड़े धोना, मृत व्यक्तियों की राख एवं शवों को बहाना, उद्योगों द्वारा उत्पादित रासायनिक उत्सर्जन ने गंगा का प्रदूषण बढ़ाकर इसमें कोलिफार्म जीवाणु उपस्थिति द्वारा जल को संदूषित कर दिया है । जल में इन सबके विषैले प्रभाव के कारण जल में मछलियाँ मरने लगी हैं।


21. कैसे कहा जा सकता है कि वन ‘जैव विविधता के विशिष्ट (Hotspots) स्थल’ हैं ?

उत्तर ⇒  वन ‘जैव विविधता के विशिष्ट (hotspots) स्थल हैं । जैव विविधता का एक आधार उस क्षेत्र में पायी जानेवाली विभिन्न स्पीशीज़ की संख्या है। परंत जीवों के विभिन्न स्वरूप (जीवाणु, कवक, फर्न, पुष्पी पादप, सूत्रकृमि, कीट, पक्षी, सरीसृप इत्यादि) भी महत्त्वपूर्ण हैं । वंशागत जैव विविधता को संरक्षित करने का प्रयास प्राकृतिक संरक्षण के मुख्य उद्देश्यों में से एक है। विभिन्न प्रकार के अध्ययन से हमें पता चलता है कि विविधता के नष्ट होने से पारिस्थितिक स्थायित्व के भी नष्ट होने की संभावना रहती है।


22. आप अपनी जीवन शैली में क्या परिवर्तन लाना चाहेंगे जिससे हमारे संसाधनों के संपोषण को प्रोत्साहन मिल सके ?

उत्तर ⇒  हम अपनी जीवन शैली में ऐसे अनेक परिवर्तन लाना चाहेंगे जिससे हमारे संसाधनों के संपोषण को प्रोत्साहन मिल सके. हम ‘कम उपयोग’, ‘पुनः उपयोग’ तथा ‘पुनः चक्रण’ की नीति अपनाएँगे, जीवाश्म ईंधन-कोयला एवं पेट्रोलियम का निम्नतम उपयोग करेंगे, जल की अतिव्ययता को रोकेंगे, बिजली का कम उपयोग करके, वन-संपदा को बचाने हतु उठाये गये कदम में सहयोग करके, लिफ्ट का प्रयोग न कर सीढ़ियों का प्रयोग करेंगे, जल संरक्षण में सहयोग देंगे इत्यादि।


23. पर्यावरण-मित्र बनने के लिए आप अपनी आदतों में कौन-कौन से परिवर्तन ला सकते हैं ?

उत्तर ⇒ 

(i) धुआँ रहित वाहनों का प्रयोग करके

(ii) पॉलीथीन का उपयोग न करक

(iii) जल संरक्षण को बढावा देकर

(iv) वनों की कटाई पर रोक लगाकर

(v) वृक्षारोपण करके

(vi) तेल से चालित वाहनों का कम-से-कम उपयोग करके।
उपरोक्त विभिन्न विधियों को अपनाकर हम पर्यावरण-संरक्षण में योगदान कर सकते हैं।


24. प्लास्टिक का पुनः चक्रण किस प्रकार होता है? क्या प्लास्टिक के पुनः चक्रण का पर्यावरण पर कोई समाघात होता है ?

उत्तर ⇒  प्लास्टिक के डिस्पोजेबुल कप एवं गिलास की जगह मिट्टी के कुल्हड़ या पेपर के डिस्पोजेबुल कप एवं गिलास का प्रयोग करना ज्यादा सही है। प्लास्टिक का पुनः चक्रण आसान नहीं है। इसे बार-बार उपयोग करना इसका जमाव पर्यावरण में अपेक्षाकृत कम हो जाता है। इससे पर्यावरण से प्लास्टिक समाप्त तो नहीं हो जाएगा, पर इसका जमाव कम हो सकता है।


25. जीवाश्म क्या है ? जैव विकास प्रक्रम के विषय में ये क्या बतलाता है ?

उत्तर ⇒  किसी जीव की मृत्यु के बाद उसके शरीर का अपघटन हो जाता है तथा वह समाप्त हो जाता है। परंतु कभी-कभी जीव अथवा उसके कुछ भाग ऐसे वातावरण में चले जाते हैं जिसके कारण इनका अपघटन पूरी तरह से नहीं हो पाता । जीव के इस प्रकार के परिरक्षित अवशेष जीवाश्म कहलाते हैं। जीवाश्मों के अध्ययन से जैव विकास के प्रमाण मिलते हैं। आर्कियोप्टेरिक्स (Archaeopteryx) एक ऐसा ही जीवाश्म है जिसमें रेप्टीलिया तथा एवीज (पक्षी) दोनों के गुण पाये जाते हैं। आर्कियोप्टेरिक्स में रेप्टीलिया की तरह जबड़ों में दाँत तथा अंगुलियों में नख थे। पक्षियों की तरह इसमें डैने (wings) तथा पर या पंख (feathers) थे । इसके अध्ययन से इस बात की पुष्टि होती है कि रेप्टीलिया तथा एवीज का विकास एक ही पूर्वज से हुआ है । इसी तरह यह (जीवाश्म) जैव प्रक्रम है एक धीरे-धीरे होनेवाला जीवों के विकास का ।

जीवाश्म क्या है ? जैव विकास प्रक्रम के विषय में ये क्या बतलाता है ?


26. जल संग्रहण की पारंपरिक व्यवस्था-खादिन पद्धति का रेखांकित चित्र बनाइये ।

उत्तर ⇒ 

चित्र : जल संग्रहण की पारंपरिक व्यवस्था-खादिन पद्धति का आदर्श व्यवस्थापन

चित्र : जल संग्रहण की पारंपरिक व्यवस्था-खादिन पद्धति का आदर्श व्यवस्थापन


27. बड़े बाँध के विरोध में मुख्यतः किन समस्याओं का सामना करना पड़ता है ?

उत्तर ⇒  बड़े बाँध के विरोध में मुख्यतः तीन समस्याओं का सामना करना पड़ता है –

(i) सामाजिक समस्याएँ – इससे बड़ी संख्या में किसान और आदिवासी विस्थापित होते हैं, और इन्हें मुआवजा भी नहीं मिलता ।

(ii) आर्थिक समस्याएँ – इनमें जनता का बहुत अधिक धन लगता है और उस अनुपात में लाभ अपेक्षित नहीं है

(iii) पर्यावरणीय समस्याएँ – इससे बड़े स्तर पर वनों का विनाश होता है तथा जैव विविधता की क्षति होती है ।


28. यदि हमारे द्वारा उत्पादित सारे कचरे जैव निम्नीकरणीय हो तो क्या इनका हमारे पर्यावरण पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा ?

उत्तर ⇒  यदि हमारे द्वारा उत्पादित सारे कचरे. जैव निम्नीकरण हो तो, अपशिष्ट पदार्थ जमा नहीं होंगे। सारे पदार्थ को पुनः पर्यावरण में वापस भेज देते हैं। इसके कारण हमारा पर्यावरण हमेशा स्वच्छ रहेगा।


29. हमें वन एवं वन्य जीवन का संरक्षण क्यों करना चाहिए ?

उत्तर ⇒  हमें वन एवं वन्य जीवन का संरक्षण इसलिए करना चाहिए क्योंकि वन ‘जैव विविधता के विशिष्ट (Hotspots) स्थल’ हैं। जैव विविधता का एक आधार उस क्षेत्र में पाई जानेवाली विभिन्न स्पशीज की संख्या है। परंतु जीवों के विभिन्न स्वरूप (जीवाणु, कवक, फर्न, पुष्पी पादप, सूक्ष्मकृमि, कीट, पक्षी, सरीसृप इत्यादि) भी महत्त्वपूर्ण हैं। वंशागत जैव विविधता को संरक्षित करने का प्रयास प्राकृतिक संरक्षण के मुख्य उद्देश्यों में से एक है। प्रयोगों एवं वस्तु स्थिति के अध्ययन से हमें पता चलता है कि विविधता के नष्ट होने से पारिस्थितिक स्थायित्व भी नष्ट हो सकता है। विभिन्न व्यक्ति फल, नट्स तथा औषधि एकत्र करने के साथ-साथ अपने पशुओं को वन में चराते हैं अथवा उनका चारा वनों में एकत्र करते हैं।


S.N  Physics ( भौतिक विज्ञान ) लघु उत्तरीय प्रश्न 
1 प्रकाश के परावर्तन तथा अपवर्तन
2 मानव नेत्र तथा रंगबिरंगा संसार
3 विधुत धारा
4 विधुत धारा के चुंबकीय प्रभाव
5 ऊर्जा के स्रोत
S.N Chemistry ( रसायन विज्ञान ) लघु उत्तरीय प्रश्न 
1 रासायनिक अभिक्रियाएं एवं समीकरण
2 अम्ल क्षार एवं लवण
3 धातु एवं अधातु
4 कार्बन और उसके यौगिक
5 तत्वों का वर्गीकरण
S.N  Biology ( जीव विज्ञान ) लघु उत्तरीय प्रश्न
1 जैव प्रक्रम 
2 नियंत्रण एवं समन्वय
3 जीव जनन कैसे करते हैं
4 अनुवांशिकता एवं जैव विकास
5 हमारा पर्यावरण
6 प्राकृतिक संसाधनों का प्रबंधन
Bihar Board ( BSEB ) PDF
You might also like